Urdu stories for kids – Urdu Kahani

Hey friends, we are providing you Urdu quotes, Urdu to Arabic, Urdu fairy tales, Urdu Kahani, Urdu stories for kids. Urdu calligraphy, Urdu cartoon, Urdu grammar, Urdu Kahaniyan, Urdu essay, Urdu quotes about life. Urdu university Karachi, Urdu quotations, Urdu drama, Urdu application. Urdu Muhavare, urdu grammar pdf, Urdu English keyboard, Bhoot ki kahani, Kahaniya , Kahani love story, Kahani song, Kahani story.

Bhoot ki Kahani

Urdu stories for kids
Urdu stories for kids

15 साल के बच्चे की कहानी है जिसका नाम था दाने और जो अपनी फैमिली के साथ हंसी-खुशी रहता था दानिश एक बहुत ही अमीर घराने से ताल्लुक रखता था और अपने मां-बाप की इकलौती औलाद था उसके मां-बाप ने उसे जिंदगी की हर आशा क्षति हुई थी और वह अपने मां-बाप से बहुत मोहब्बत करता ी एक ही रा ात में ही रात में दानिश की जिंदगी इतनी बदल जाएगी उसने कभी सोचा भी ना े ा ात ा दान िश के रात दानिश के मां-बाप उसे दोस्त की बर्थडे पार्टी से पिक करने आ रहे थे की का ड़ी गाड़ी तरफ तो के बीच सुनसान रास्ते से गुजर रही थी कि अचानक उनकी गाड़ी के सामने एक पुरस्कार यों से री से इतनी इतनी जोर से टकराई कि तीनों की मौके पर ही मौत हो ी श यह ां पर यह खबर सुनकर बेहाल हो गया मां बाप की मौत के बाद अब दानिश इस दुनिया में बिल्कुल तन्हा और भी आ य उसकी उसके एक दूर के चाचा और चाची के उसका इस दुनिया में

कोई ना की चर्च और चाचा और चाची बहुत नरम दिल और अच्छे मिजाज के थे उनकी अपनी कोई औलाद नहीं थी तो वह दानिश को अपना बेटा बना कर के पालने की जिम्मेदारी लेना चाहते थे दानिश उन दिनों बहुत अच्छा और शादी शादी से खुश रहा था उसके पास उनके साथ जाने के लावा और कोई रास्ता नहीं की चाचा और चर्च और चाची गरीब थे और वह एक दूर सुनसान इलाके में एक छोटे से कॉटेज में रहते को बुलाकर देख कर कोयला देखकर काफी घबराहट सी महसूस हो रही थी कहा वही कमी कभी मां बाप का बेटा और अब उसकी जिंदगी ने एक और ही रोक लिया था वह अपने चाचा और चाची के साथ होते हुए भी और अकेला महसूस करा था और अपने मरे हुए मां बाप को पल पल उस के अंग उसके अंकल और आंटी ने ाह मोहब्बत से दानिश को जिंदगी की तरफ तरफ लाने का फैसला कर लिया था वह हरा दिल बहलाने की कोशिश वो वह इस सदमे से बाहर आ सके उनके प्यार मोहब्बत का असर ही था कि दानिश जिंदगी

तरफ वापस आने लगा वह फिर से मुस्कुराने लगा और अपने चाचा और चाची की छत से मायूस होके होकर उनके बहुत करीब आ है कि अपने मां-बाप को याद तो हो वह अभी भी करता था ी एक र आ त एक रात दानिश के साथ ऐसा वाकया हुआ जिसने उसकी रूह को हिला कर रख े त उसने अपने चाचा और चाची को बताई के कि उसने उस रात अपनी खिड़की में क्या देखा था पर उन्होंने उसके बाद का यकीन ही नहीं किया और उसको समझाया कि वह लोग यहां पर एक अरशद रास्ते मुकीम है और आज तक उनके साथ कभी कोई अनहोनी नहीं हुई यह बहुत ही शेष इलाका है यह सब उसका वह मौका और कुछ द्ध न े श ्ट टील ही दे ल में दानिश दिल ही दिल में जानता था स वो उस का वह उसका वह नहीं रा त रात जब दानिश अपने बिस्तर पर लेटा सोने की कोशिश कर रहा था तो रात की खामोशी में उसने अपने कमरे में किसी के की चलने की आवाज का

ा ओ गए घबरा गया उसे कुछ नजर नहीं आ रहा था क्योंकि कमरे में अंधेरा था सच्ची आप है े दाने कुछ भी भेज ा अच्छा बेटा ी े सुध ह 2:00 0 श सुबह दानिश ने सारी बात अपने चाचा और चाची को बताएं बताई वह ऑफ में मुब्तिला था और उसकी हालत बहुत खराब लग रही थी के चर्च और चाचा और चाची उसकी यह हालत देख कर बहुत परेशान हो तो पर क ले दे न ों पिछले दिनों इतना खुश थे के दाने जिंदगी की तरह वापस आ रहा है मगर अब तो ऐसा लग रहा था कि जैसे उसकी हालत पहले से भी ज्यादा खराब हो को छ कुछ को चुराते दानिश ठीक से सो भी नहीं अपनी आंख अपनी आंखें बंद करने से डरने लगा कि कहीं वह और दोबारा उसके सामने की सेहत सेहत दिन-ब-दिन बिगड़ती जा रही पहले की तरह की तरह हंसना और बात करना बिल्कुल बिलकुल छोड़ दिया अपने अपने चाचा और चाची को बताया कि

ही उसकी आंख लगती है उस औरत की भयानक आवाज उसे नींद से बेदार जो जब वह अपनी आंखें खोलता है तो उसका हौसला हौसला चेहरा का फोन फोन हॉस्टल र दे ता है देता एक एक आवाज भी अपने मुंह से नहीं निकाल के चर्च और चाचा और चाची दानिश की तबीयत को मस्जिद पर करता हुआ नहीं देख सकते थे इसीलिए उन्होंने इरादा किया कि वह उसे एक अच्छे से साइकेट्रिस्ट के पास लेकर जाएंगे दानिश का मुआयना करने के बाद साइड उन्हें बताया सरकार ने उन्हें बताया कि मां-बाप की अचानक मौत का दानिश के दिल और दिमाग पर बहुत ही गहरा असर हुआ है इतना कि वह एक सहनी बीमारी में मोहल्ला हो चुका है जिसे जिसे क्या कहते हैं कहते हैं ऐसी बीमारी में इंसान अपने एक ऐसी हो ना एक ऐसी चीजें देखने लगता है इसका हकीकत से कोई वास्ता नहीं होता इस को बाकायदा से इस बीमारी की दवा लेनी होगी ना दानिश की कंडीशन मस्जिद बिगड़ खबर के खबर के बाद उसके चाचा और चाची उसका और भी ज्यादा ख्याल रखने लगे उसकी उसी वक्त पर उसको

दे रही थी दानिश की हालत संभलने का नाम ही नहीं ले रही थी रा ात उसके चाचा की तबीयत बहुत ज्यादा खराब है कि उसकी चाची को उन्हें जल्दी में हॉस्पिटल की की उन्होंने दानिश को नींद से जगाना जरूरी नहीं समझा क्योंकि उन्हें मालूम था कि एक पाठ बार उठ गया तो दोबारा सो नहीं पाएगा पाए तो उसे घर में लॉक करके जल्दी में गाड़ी लेकर हॉस्पिटल चले ने श क्यों किया रा जरा सी आवाज के के की आवाज से को को अच्छी तरह हो गया था कि वह घर में बिल्कुल अकेला है और उसकी यदि ऐसा करने के लिए काफी को एक ीन यकीन था कि किसी भी लमहे लमहे को पुरस्कार औरत लमहे को पुरस्कार और अंधेरे में से निकल के हमला करते की कर देगी और उसे बचाने वाला कोई ना हो का सोच सोच सोच सोच कर उसकी आईडी सोच कर उसकी आईडी उस पर पहुंच गई और वह पागलों की तरह अपनी दवाइयां जब उसकी दवाइयां कहीं ना मिली तो उसने सोचा कि शायद उसकी चाची ने वह अपने कमरे में ना हम्मद मत कर के करके उसके उनके कमरे की तरफ लगता है अपनी दम ा ई अपनी दवाइयां उनके

में तलाश करने रे ी हो ंगी रखी होंगी चाची ार स्ट जांच चाची और चाचा ही थे जी थे जो उसे पागलपन की तरफ लेकर जा रहे थे हर रात उन दोनों में से एक को मास्क पहन के विचारे दानिश को डराता था ताकि वह असल में बीमार और पागल हो जाए उसको पागल पागलखाने भेज दिया जाए और उसके मां-बाप जो जायदाद अपने बेटे के लिए छोड़ कर गए थे उस पर वह दोनों कब्जा करने करने अगर उसका दानिश को कमरे से मांस खाना मिलता तो वह दोनों मक्कार चाचा और चाची अपने मकसद में जरूर कामयाब हो के बाद बाद दानिश ने वह घर फौरन छोड़ दिया पुलिस की मदद हासिल की और उसके मक्कार चाचा और चाची को उनके किए की सजा मिली जिसके वह हकदार थे र एवरीवन आई होप आपको यह कहानी पसंद आई होगी प्लीज मेरी जान को सब्सक्राइब करना मत भूलें और मैं आपके कॉमेंट्स का बहुत बेचैनी से इंतजार करूंगी करूंगा थैंक यू सो मच ऑल माय म्यूजिक और बाय बाय.

Urdu stories for kids

Urdu stories for kids
Urdu stories for kids

बिल्ली शहजादी एक वक्त का किस्सा है। एक छोटे से गांव में डोरोथी नाम की एक भयानक रात और रहमदिल लड़की रहते थे जो एक बहुत ही बदमिजाज खातून मिसेज बेट्सी के लिए काम करती थी जिसकी एक बेटी थी जिसका नाम भटकती वो और भी ज्यादा बदमिजाज थी। प्यारी थी चीज खाना तत्काल चेक करो मुझे खेद है।

मेरी बेचारी तैसी बुक्स ही हैं।

मालकिन। बरबस तुमने जारी की। अगली बार हम पर रहम करो।

कुछ ऐसा पकाऊ जब खाने के काबिल हो सब्जी अब मालकिन तक कपड़े नहीं धोए करो।

लड़की दोनों की ज़िन्दगी बहुत ही दुख तकलीफ शक्ति चूंकि उसे हमेशा लगा कि उसके किए काम की तारीफ नहीं होती।

दिमाग में आ गई थी तुरंत ही अपनी बूढ़ी दादी अम्मा के साथ रहती थी और वो अपनी पूरी कमाई उन्हें आराम पहुंचाने और खुश रखने में लगा देती।

हु। अब मुझे ये बहुत पसंद हैं। पहाड़ भविष्य क्रियाशील डाउन एक शाम एक हास बालू वाली मेहमान उनके घर में घुसी।

ये एक बहुत ही खूबसूरत पर्शियन बिल्ली थी जो बहुत ही नजाकत से उनकी बैठक में घूम रहे थे।

हम उसे पास नहीं मिल पाए है लेकिन मैं इसकी देखभाल हरगिज नहीं करने वाली कोई बात नहीं।

इनकी कुछ खाली कराओ।

पर डोरोथी बिल्ली की तरफ देखने में मशगूल थी क्योंकि उसने इसे एक बिल्ली की शक्ल में ही नहीं देखा परीक्ष शहज़ादी की शक्ल में देखा जो बहुत ही शानदार कपड़े पहने।

यह मुमकिन हो सकता है यह हमें बहुत ही खूबसूरत शहजादी दिख रही अपनी एक बिल्ली चारा।

टेसी डोरोथी वापस आई क्रीम से भरा एक कटोरा लेकर कितनी देर लगा दी।

बीच से कुछ और चाहिए। उन्होंने बिल्ली को कई लजीज पकवान देने की कोशिश की पर उसने उन सब को खाने से इनकार कर दिया।

छोड़ दो उसे बिल्लियों के बाहर नखरे होते हैं। जब उसका जी चाहा तब खा लेती है। चींटी ने करी डरती है जल्दी।

मिसेस बक्सी।

हां हां तुर्की जाकर देखने लगी कि आवाज कहां से आ रही है और देखा कि शहजादी गा रही है।

तुम मुझे देख सकते हो। हां मैं मिल सकती हूं पर उन्हें यह कैसे बुरा लगता है। नेक इंसान हो। साथ ही तुम मुझे देख सकती हो। इसका मतलब है कि तुम्हारा दिल एक है। मैं तुम पर भरोसा करूंगी।

बहुत खूब में वो पहली इंसान होंगी जिसने बिली का भरोसा जीता हो। अब माफ करना ये बहुत ही भद्दा मजाक था।

हां बिल्कुल यकीन था शायद वो मेरे भाई पर डाला हुआ तिलस्म भी तोड़ सके।

माफ करना। हां वाक का वक्त आ गया है। पहले मैं शुरू करती हूं। सही है मेरा नाम माया। मैं एक शहजादी हूं जो तुम मेरे दासी यकीनन बता सकती हो और मैं फिर भी एक बिल्ली का भेस बदलकर घूम रही हूं। क्या करूं।

अब आप में बिल के पीछे इसमें क्यों घूम रही हो।

सीधी सी बात है मैं अपने खोए हुए भाई को ढूंढने की कोशिश कर रही हूं जिस पर एक खौफनाक तिलिस्म तारी है जिसे उसने मालती व बिल्ला बना दिया है।

बस यही वजह है और आप बहुत सीधी सी बात है। दरअसल मुझे समझ लेना चाहिए था सब कुछ माफ करना। अब उम्मीद करती हूं आपका भाई ठीक होगा। मेरा बिला एहसास मुझे बताता है कि वह ठीक है।

बिल्ली बनी रहना खतरनाक हो सकता है। सभी इनसान रहमदिल नहीं होते। आप एक सवाल शहजादी साहिबा मुझे कह सकती हो। प्रिंसेस माया आप शहजादी माया क्या आप अभी भी शादी है अब क्यों अपने पहरेदार और फौज का इस्तमाल नहीं करती और अपने भाई को नहीं ढूंढती।

देख रही हूं मेरा दिल बहुत बेचैन है।

खैर इस सवाल का जवाब देने के लिए मैं छुप गई क्योंकि मेरे चाचा जान ही गलीज इनसान हैं जिसने मेरे वालिद के बाद तख्त पर कब्जा कर लिया है जो मुझे और मेरे भाई को हासिल होना चाहिए था। मेरे ख्याल से इस तिलिस्म के पीछे उसी का हाथ है जिसने मेरे भाई को बिल्ली बना दिया। इसलिए मैंने फैसला किया कि बच कर निकल आऊं अपने बलबूते पर भाई की तलाश करूं और लोगों का ध्यान ना कि जो सी बात है वह बात और सीधी होती जा रही है।

हां मैं जानती हूं मेरे बारे में तो काफी हो गया। मुझे बताओ कि तुम यहां क्यों काम करती हूं इनलोगों का इतना बुरा सुलूक बर्दाश्त करते हुए मुझे है कि डोरोथी ने उसे सब बता दिया कि कैसे वो अपनी दादी अम्मा को एक आरामदेह जिन्दगी देना चाहती है और इसके लिए उसे पैसों की जरूरत थी।

मैं बस इतना ही। हां एक बात बता मैं तुम्हारी मदद करूंगी।

इतना ही नहीं जानती कि यह मुलाक़ात मत हासिल करना कितना दुश्वार है।

हम देख लेंगे। पर इसके एवज में भी मेरी मदद करूंगी। मैं कोशिश करूंगी क्योंकि तुम मुझे देख सकती हो तो मेरे ख्याल से तुम मेरे भाई को भी देख सकूंगी ये मेरा सोचना है।

एक मर्तबा मैं उसे ढूंढ लूँ चाहे वो दुनिया के किसी भी हिस्से में हो। तुम्हें मेरे साथ जाना होगा।

उसके इस तिलिस्म को तोड़ने के लिए सौदा पक्का नाला पे बिछाया और रात में वो बाहर निकल पड़ी ठंडी हवा।

ये लोग ये सोने के सिक्के ले लो इन्हें अपनी दादी मां को दे दो। अब तुम्हें उस सालिम खातून के लिए और काम करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। क्या यकीन।

हां ये सोना हमेशा के लिए कायम नहीं रहेगा।

हमें तुम्हारे मसले का हल चाहिए तुम्हारे घर चलें वो दोनों फौरन ही डोरोथी के छोटे से घर में पहुंच गए और अब तक सूरज निकल चुका था।

मैं बाहर इंतजार करूंगी। मेरी जाति तुम्हारी दादी अम्मा तुम्हें मुझसे बात करती दिक्कत में दीवानी समझें। ठीक है पर तुम मेरे कमरे में छुप कर अंदर जा सकती हो उसके किसी और मैं तुम्हें वहां मिलूंगी।

ठीक है। दादी मां क्या है।

तू क्या लालू मैं कैसे मिली यह किस्मत का करिश्मा था।

अब हम बहुत बेहतरीन जिन्दगी जी सकेंगे।

उस दिन जब सूरज निकला और अपने पूरे शबाब पर चमक रहा था।

शहज़ादी ने डोरोथी से बात की जा रही थी कि क्या तुम सिलाई करना जानती हो।

बेशक मुझे डिजाइन बहुत पसंद के जवाब में।

Urdu Horror stories for kids

Urdu stories for kids
Urdu stories for kids

क्या मेरे साथ 1 साल पहले े से कोर के स्कूल के फाइनल एग्जाम सोने वाले थे और मेरी बहुत ही तैयारी अभी बाकी रहती थी े ज तो हम आ ी हमारी स्कूल की लाइब्रेरी 5:00 बजे तक बंद हो जाती थी मगर एग्जाम्स करीब होने की वजह से स्कूल ने यह फैसिलिटी प्रोवाइड की हुई थी कि लाइब्रेरी रात 11:00 बजे तक ओपन रहती थी ताकि स्टूडेंट्स अगर चाहे तो लाइब्रेरी में देर तक रुक एग्जाम की प्रिपरेशन कर सकें सके मेरा घर स्कूल से ज्यादा दूर नहीं था तो घर पर स्टडी करने की बजाय मैं भी यही पूछा करती थी कि उसे जाकर लाइब्रेरी के हॉल में एग्जाम की तैयारी करने नहीं हुआ इतना लेट लाइब्रेरी में कभी नहीं रुकी थी ज्यादा से ज्यादा 8:00 बजे तक चली थी 8:00 बजे तक लाइब्रेरी में थे तो वहां बिल्कुल सन्नाटा था मेरा बस कुछ 15 मिनट का काम रहता था तो मैंने सोचा जल्दी से खत्म कर लूं और फिर घर की तरफ लूंगी मैं पूरी तरह से अपने काम में घूमती अचानक लाइब्रेरी की अजीब तरह से चलने की आवाज आवाजें सुनाई दी तेरी हमारे स्कूल की लाइब्रेरी के बारे के आता है की थी थी रही थी बिल्कुल खाली थी क्योंकि काफी अजीब बात होती है और रात में भी लोग नजर आते रखते हुए अपने घर की तरफ जा रही थी जमीन पर किसी का बढ़ता हुआ

हालांकि उस वक्त मेरे कोई नहीं था सर ट सर उठा के सामने देखा तो मेरे आगे चल रही थी वह थोड़ा अजीब लगी ऐसा लग रहा था कि वह मंजूर है और बहुत ही मुश्किल से लंगड़ा लंगड़ा कर चल रही ना अच्छा चल रही थी कि थोड़ी देर में मैं उसके करीब पहुंच गई कर ी ब करीब कि मैं उसे अपने सामने बिल्कुल साफ देख सकती पहने ऐसा लग रहा था कि उसके हाथ और पांव मुड़े हुए हैं और तो और उसके बाल भी पूरी तरह बिखरे हुए थे मुझे वह सब इतना अजीब लगा कर मेरे कदम वहीं रुक घ ी क ट ी टी ने ग कट फीलिंग कट फीलिंग बार-बार मुझे यह कह रही थी कि मुझे इस औरत की के और करीब नहीं जाना चाहिए ना ही मैं ना ही मुझ में उसे क्रॉस करके आगे बढ़ने की हिम्मत ा ज ित स्म ्म से से उस का जैसे उस वक्त फ्रीज हो गया था का फ से आफ से ना तो मेरे मुंह से कोई आवाज निकल पा रही थी और ना ही मैं

से हिल पा रही थी मेरा शहर बिल्कुल सुनता सुन था मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं उसके सवाल का क्या जवाब दूं मैं नहीं डर के मारे उस औरत को उंगली से दूर इशारा कर दिया मैं बस चाहती थी कि वह वहां से चली जाए उस तरफ चली गई जिस तरफ इशारा किया था और अंधेरे में इतना दूर निकल गई कि मेरी नजरों से ओझल हो गए यह ऑफ यह ऑफ खाए जा रहा था कि कहीं वह औरत दोबारा मेरे सामने ना आ जाए इसलिए मैं तेरे घर की तरफ तोड़ना शुरू हो गई उस वक्त मेरा सहन और नहीं सोच पा रहा था सिवाय इसके कि मुझे कोई गाड़ी या कोई बंदा रोड पर नजर आ जाए इसकी मैं मदद ले सकूं उसी लम्हे मुझे उस औरत की टूटने की आवाज आई बाद बाद मुझे कुछ भी याद नहीं जब मैं होश में आई तो मुझे पता चला कि मेरे नंबर को मैं रोड पर बेहोश हालत में मिली और उन्होंने मुझे घर पहुंचाया पहुंचाया मुझे हमारे नेट से पता चला 998 में 998 में आगे थाना में मी 132

अपनी बेटी के साथ एक अपार्टमेंट बिल्डिंग में रहती थी वह अपनी बेटी से बहुत मोहब्बत करती थी और उसकी बेटी की उम्र 9 साल थी स्कूल में ही पढ़ती थी थी 1 दिन स्कूल में खेलते खेलते अचानक एक हादसे में उसकी बेटी की मौत हो गई ्ता न ी अपनी भी ट ी की बेटी की मां का सपना को बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं कर इसी इसी समय में इस दुनिया से के के बाद आग े आगे था स्कूल में और उस एरिया के आस पास आसपास अक्सर लोगों को अपनी बेटी को ढूंढते हुए ढूंढती हुई नजर आती की भी ज े बेचैन हो हूं मरने के बाद भी अभी तक अपनी बेटी से मिलने के लिए भटक एवरीवन आई

Also Read :

Leave a Comment